SWOT Full Form In Hindi – SWOT क्या है?

हेलो दसोटो कैसे हो आप लोग उम्मीद करता हूं आप सब अच्छे होंगे। आप सभी को HindiMePro वेबसाइट में स्वागत है। आज फिर से आपके लिए और एक नया पोस्ट लेके आया हूं आज में आपको स्वोट क्या है, SWOT Analysis क्या हैं, SWOT Analysis कैसे करते हैं, SWOT Analysis क्यों करते हैं, SWOT Analysis की कोई Reference Book, SWOT में T का मतलब है, SWOT Full form, स्वाट विश्लेषण क्या है, स्वोट का पूरा नाम ( SWOT Full Form In Hindi ), स्वोट विश्लेषण की परिभाषा, SWOT analysis in Hindi, SWOT full form in english इन सबके बारे में बताऊंगा तो चलिए जानते है।

आज हम एक ऐसी तकनीक के बारे में बात करेंगे जिसका प्रयोग करके जीवन के हर पहलू में सफल हो सकते। लेकिन फ्रेंड्स चाहे कोई भी हों लेकिन आपको डिसीजन तो लेने होंगे। आपको अपनी प्रोफेशनल लाइफ में और पर्सनल लाइफ में डिसीजन तो हर हाल में लेने होंगे और डिसीजन पर ही निर्भर करता है कि आपका फ्यूचर क्या होगा। अगर आपने सही समय पर सही डिसीजन लिए तो रिजल्ट्स वैसे ही होंगे जैसा आपने सोचा। अगर आपके डिसीजन गलत हुए तो आपको वो नहीं मिलेगा जो आपने सोचा था इसलिए लाइफ में ये बहुत ही जरूरी है कि सही समय पर सही डिसीजन लिया जाए तो फ्रेंड्स आज आपको ऐसी ही एक तकनीक के बारे में बताने वाला हूं। जिस तकनीक का इस्तेमाल करके हम सही समय पर सही डिसीजन ले सकते हैं इस तकनीक को SWOT नाम से जानते हैं। अगर आप जानना चाहते हैं कि SWOT क्या है सही डिसीजन लेने में SWOT की क्या भूमिका है तो बने रहिए हमारे साथ और हमारी पोस्ट  को आखिर तक पढ़े।

SWOT Analysis क्या है

SWOT एक ऐसी तकनीक है जिससे जिंदगी में किसी भी डिसीजन को लेने से पहले आप अपने आपको सेल्फ एनालाइज करते हैं यानी कि आत्म विश्लेषण का तरीका है ये हम सबसे पहले जानते हैं SWOT का मतलब।SWOT का मतलब होता है S का मतलब Strengths, W का Weakness, O का मतलब Opportunities, T का मतलब Threats. यह एक सेल्फ एनालाइज तकनीक है। लाइफ में कोई भी डिसीजन लेने से पहले इस तकनीक का प्रयोग जरूर करना चाहिए। यह एक ऐसी तकनीक है जिसके द्वारा कोई व्यक्ति या संस्था अपना अध्ययन कर सकते हैं जिसे वे अपनी आंतरिक ताकत और कमियों और भारी अवसर और खतरों को पहचान सकें। यह एक सेल्फ असेसमेंट तकनीक है जिसकी मदद से हम अपनी खूबियों कमजोरियों अवसरों और चुनौतियों के बारे में जान सकते हैं। सामान्य तौर पर यह पाया गया है कि जितनी आसानी से हम दूसरों की कमियों और खूबियों का मूल्यांकन कर सकते हैं उतनी आसानी से स्वयं का मूल्यांकन नहीं कर पाते हैं परंतु यह बात भी सच है कि जितनी सटीकता और वास्तविकता से हम अपना मूल्यांकन कर सकते हैं ऐसा अन्य कोई दूसरा व्यक्ति नहीं कर सकता तो आज हम इस तकनीक का इस्तेमाल करके अपने श्रम का मूल्यांकन करेंगे।

SWOT का फुल फॉर्म  – SWOT Full Form In Hindi

  • SWOT Full Form In English – Strengths, Weaknesses, Opportunities, and Threats
  • SWOT Full Form In Hindi – शक्तियों, कमजोरियों, अवसरों, और खतरों
  • SWOT Full Form In Marathi – सामर्थ्य, दुर्बलता, संधी आणि धमक्या
  • SWOT Full Form In Gujrati – શક્તિ, નબળાઇઓ, તકો અને ધમકીઓ

SWOT Analysis कैसे करते हैं

सबसे पहले आप एक डायरी और पेन साथ मिलें और किसी एकांत और शांत जगह पर चले जाएं या शांत जगह आपका कमरा छत कुछ भी हो सकती। अब डायरी के चार अलग अलग पेजों पर हेडिंग लिखें। पेज नंबर एक पर Strengths, पेज नंबर दो पर Weakness, पेज नंबर 3 पर Opportunities इस और पेज नंबर 4 पर Threats. इसमें से पहले और तीसरे पेज वाली चीजें आपके लिए हेल्पफुल यानि की उपयोगी हैं और दूसरे और चौथे पेज वाली चीजें हार्मफुल यानि की नुकसानदायी। अब हम एक एक करके आगे आने वाले सभी प्रश्नों के उत्तर संबंधित पेजों में लिखेंगे। परंतु एक बात याद रहे इन सवालों के उत्तर आपको पूरी निष्पक्षता और ईमानदारी से देने हैं। जवाब लिखने में किसी भी तरह की जल्दबाजी न करें।

हम शुरुआत करते हैं SWOT के पहले पॉइंट Strengths यानी कि हमारी ताकत या खूबियां तो यहां पहले पेज में अपनी कम से कम 10 क्वालिटीज लिखेंगे। आप अपने बारे में सोचें कि आपके अंदर क्या क्या क्वालिटीज हैं जिसके कारण लोग आपकी तारीफ करते हैं या आपको लगता है कि मेरी क्वालिटीज हैं जैसे आपकी कम्युनिकेशन स्किल अच्छी है। आप एक बेस्ट प्लानर हैं। आप किसी से जल्दी घुल मिल जाते हैं। आपकी रेपुटेशन अच्छी है। आपकी फेस वेल्यू अच्छी है। आप आत्मविश्वास से भरपूर हैं। आप अपने शहर का जिसमें काम कर रहे हैं या करना चाहते हैं उसका उपयुक्त ज्ञान है आपके पास या कुछ और क्वॉलिटीज। आप इसके लिए अपने आप से कुछ सवाल भी पूछ सकते हैं जैसे कि मेरे अंदर क्या कौशल और क्षमताएं हैं। मैं किन क्षेत्रों में कामयाबी हासिल कर सकता हूं। मेरा विलक्षण गुण क्या है। कौन से व्यक्तिगत गुण या मुल्ले मुझे सफलता दिलाएंगे अगर आपको समझ नहीं आ रहा है तो आप अपने किसी दोस्त या अपने पेरेंट्स की मदद ले सकते हैं। उनसे पूछें कि उनको आपके अंदर क्या क्या क्वॉलिटीज नजर आती हैं और कम से कम 10 क्वॉलिटी जरूर लिखें। अगर आपको लगता है कि और भी ज्यादा हैं तो वो भी लिखें।

अब हम आगे बढ़ते हैं हमारे दूसरे पॉइंट यानि की Weakness पर यानी हमारी कमजोरियां कमजोरियों से मतलब है कि हमारी अच्छी आदतें या अवगुण जिनको हम हमारे दृढ़ निश्चयी मात्र से दूर कर सकते हैं और जिनकी वजह से हमारे काम की लिमिटेशन तय होती है। जैसे सुबह जल्दी ने उठाना काम में मन न लगना एकाग्रता आलस्य का हावी रहना आदि। इसके लिए भी आप आप से कुछ सवाल पूछ सकते हैं जैसे कि कौन कौन से नकारात्मक विचार मेरे अंदर हैं। मेरी क्षमताओं में किन किन चीजों की कमी है मुझे कौन से कौशल हासिल करने हैं। मैं अपने जीवन के कौन से क्षेत्रों में सुधार कर सकता हूं। मेरी बुरी आदतें कौन सी हैं हमें इसमें भी वही तरीका अपनाना है जो हमने अपने पिछले एनालिसिस पॉइंट Strengths में अपनाया था। इसमें भी हमें कम से कम हमारी 10 कमजोरियां जरूर लिखनी हैं। याद रहे हर किसी में कोई न कोई Weakness जरूर होती है। जो व्यक्ति इन पर काम करके इन्हें दूर कर सकता है या दूर करता है वही इस जीवन संग्राम में विजयी होता है।

अब हम आगे बढ़ते हैं हमारे तीसरे पॉइंट यानी कि Opportunities पर यानी कि हमारे जीवन में मिलने वाले अवसरों पर। Opportunities से मतलब है कि हमारे पास एक्सटर्नल क्या क्या साधन हैं जो हमें हमारे लक्ष्य तक पहुंचाने में हेल्प कर सकते हैं जैसे मेरे आस पास का वातावरण कैसा है मेरे पास कौन कौन से रास्ते हैं आगे बढने के लिए मैं किस सेक्टर या फील्ड में काम कर सकता हूं आदि। और हम खुद से कुछ ऐसे सवाल भी पूछ सकते हैं जैसे कि मेरे लिए कौनसा अवसर उपलब्ध हैं। कौन सी परिस्थितियां मुझे मेरे लक्ष्य तक पहुंचाने में सहायता करेंगी। कौन से लोग मेरी सहायता और सहयोग कर सकते हैं अभी कौन सा ट्रेंड चल रहा है जिसके अनुसार मैं अपना कार्यक्षेत्र चुन सकें इसमें भी हमें कम से कम हमारे 10 अवसरों के बारे में जरूर लिखना है।

अब हम आगे बढ़ते हमारे आखरी पॉइंट यानि Threats पर। Threats यानि बधाएँ देखिए जो भी आपने गोल सेट कर रखा है उसे प्राप्त करने में जो बाहरी बाधाएं हैं उन्हें हम Threats कहते है। इस पेज में लिखें कि जो मेरा मेन गोल है उस रास्ते में मेरे सामने आने वाली बाधाएं क्या क्या हैं जो मुझे आगे बढने से रोक सकती हैं जिनकी वजह से मुझे आगे बढने में परेशानी हो सकती है और अपनी बाधाओं को जानने के लिए हम खुद से कुछ सवाल भी पूछ सकते हैं जैसे कि हमने पिछले पांच में पूछे जैसे मुझे किन बाधाओं का सामना करना है कौन से विचार मेरे विकास में बाधक हैं कौनसे डरों ने मुझे जकड़ा हुआ है कौन से लोग मेरी प्रगति में बाधा बन सकते हैं मुझे किन किन प्रतिस्पर्धाओं का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि आज का युग कंपटीशन का युग है। इसमें भी हमें कम से कम हमारी 10 बांधों के बारे में जरूर लिखें ।

अब अपने लिखे गए इन जवाबों को दो से तीन बार तसल्ली से पढ़ें। Strengths वाले पेज में जितने जवाब हैं वह सब आपके लक्ष्य को हासिल करने में आपकी सहायता करेंगे। Weakness वाले पेज में लिखे हुए जबाब आपकी सफलता और अच्छे काम में बाधक तत्व है। अब यह आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप अपनी इन कमजोरियों से कैसे निपटते हैं। Opportunities बाले पेज में लिखे हुए जबाब आपके लिए सफलता के द्वार हैं। ये द्वार कभी कभार ही खुलते हैं इसलिए ने अच्छे से पढ़ें और इन पर चिंतन मनन करें और इनका फायदा उठाएं। अब Threats  वाले पेज के जवाबों को पढ़ें ये सभी आपकी सफलता की राह के कांटे हैं जिनसे आपको बचना है।

मुझे आशा है कि आप इस वीडियो की मदद से आत्मविश्लेषण कर पाएं होंगे और आपको अपनी Strengths, Weakness, Opportunities, Threats के बारे में बखूबी जानकारी हो गई होगी। इसकी मदद से आप अपने गोल्स सेट करके उसे आसानी से अचीव कर पाएंगे।

आज हमने क्या सीखा

आज की पोस्ट में हमने SWOT क्या है, SWOT का पूरा नाम ( SWOT Full Form In Hindi ) बारे में जाना है। में उम्मीद करता हूं ये पोस्ट आपको अच्छा लगा होगा अच्छा लगा हो तो इस पोस्ट को आप अपनी दोस्तो के साथ जरूर शेयर कर देना उनको भी पता चले की SWOT Analysis के बारे में। जय हिन्द।

Leave a Comment