Updated On June 17th, 2021

आपको HindiMePro वेबसाइट में स्वागत है। इस पोस्ट में मेने एसडीओ क्या है, एसडीओ का full फॉर्म क्या है ( SDO Full Form In Hindi ), एसडीओ की क्या काम होता है, एसडीओ की एग्जाम पैटर्न, एसडीओ एग्जाम की सिलेबस के बारे में बताया है।

एसडीओ क्या है?

दोस्तो एसडीओ का फुल फॉर्म सब डिविजनल ऑफिसर मतलब कि उपमंडल अधिकारी। दोस्तो जिस प्रकार लोग आईएएस आईपीएस बनते हैं ठीक उसी प्रकार एसडीओ भी बनती है आईएएस आईपीएस का एग्जाम यूपीएससी कंडक्ट कराती है। वहीं एसडीओ के लिए स्टेट लेवल के पीसीएस कराती है जैसे बिहार पब्लिक सर्विस कमीशन ( बीपीएससी ), उत्तर प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन ( यूपीपीएससी ), झारखंड पब्लिक सर्विस कमिशन ( जेपीएससी ), मध्य प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन ( एमपीपीएससी )। इसी प्रकार से देश भर के स्टेट पीसीएस का करवाती है।

SDO Full Form In Hindi – एसडीओ का फुल फॉर्म क्या है?

SDO Full Form In Government Organizations

सरकारी संगठन में एसडीओ का फुल फॉर्म Sub Divisional Officer है।

SDO Full Form In Programming & Development

प्रोग्रामिंग और विकास में एसडीओ का फुल फॉर्म Service Data Objects है।

SDO Full Form In Astronomy & Space Science

खगोल विज्ञान और अंतरिक्ष विज्ञान में एसडीओ का फुल फॉर्म Solar Dynamics Observatory है।

SDO Full Form In Psychology

मनोविज्ञान में एसडीओ का फुल फॉर्म Social Dominance Orientation है।

एसडीओ की क्या काम होता है?

एसडीओ अपने विभाग के सभी अपने डिवीजन में आने वाले अन्य सभी छोटे अधिकारी अपने काम के लिए एसडीओ को प्रति जवाबदेही होती है और वह तासीलदार और अन्य अधिकारियों की मदद से अपने क्षेत्र के विकास कार्य पर भी नजर देखती है।

इसके साथ ही एसडीओ छोटे अधिकारियों के लिए जनता द्वारा शिकायत आने पर उसकी शिकायत की सुनवाई भी करता है। जो भूमिका एक डीएम की पूरे जिले में होती है वही भूमिका एक एसडीओ की अपने विभाग में होती है।

एसडीओ बनने के लिए क्वॉलिफिकेशन क्या चाइये?

दोस्तो इस पोस्ट का फॉर्म भरने के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन पास होना चाहिए और ध्यान रखिए यहां डिप्लोमा वाले फॉर्म नहीं भर सकते और एग्जाम में बैठने के लिए आपके पास संबंधित क्षेत्र में स्नातक डिग्री अनिवार्य है। अगर आप ग्रेजुएशन पास हैं या लास्ट सेमेस्टर या लास्ट ईयर के स्टूडेंट है तो आप फॉर्म अप्लाई कर सकते हैं।

ग्रेजुएशन में आपको सिर्फ पास मार्क्स होने चाहिए। अगर आपने ग्रेजुएशन किसी भी स्ट्रीम से की हो जैसे बीए, बीएससी, बीकॉम, बीबीए, इंजीनियरिंग, एग्रीकल्चर, मेडिकल, होटल मैनेजमेंट इत्यादि से आप फॉर्म अप्लाई कर सकते हो। दोस्तो यह बात ध्यान रखिए किसी भी स्टेट पीसीएस का फॉर्म भरने के लिए आपको वहां का निवासी होना जरूरी नहीं है। अगर आप उत्तर प्रदेश से हैं और बिहार झारखंड का फॉर्म भरना चाहते हैं तो आप भर सकते हैं।

एसडीओ के लिए ऐज कितना होना जरुरी है?

अगर आप बीपीएससी का फॉर्म भरते हैं या यूपीपीएससी का तो एज लिमिट है मिनिमम 21 साल और मैक्सिमम 30 साल या एज लिमिट सभी के लिए है। उम्र सीमा में जो छूट मिल रही है वह जिस स्टेट की निवासी हैं उन्हें ही मिलेगी जैसे कि आप अगर बिहार के हैं और बीपीएससी का फॉर्म भर रहे हैं तो आपको एज में छूट मिलेगी।

अब कैटेगरी वाइज उम्र सीमा की बात करूं तो जनरल कैटेगरी के लिए मिनिमम 21 साल मैक्सिमम 30 साल है। वहीं ओबीसी के लिए तीन साल की छूट और एससी एसटी वालों के लिए पांच साल की छूट मिलती है। अगर फॉर्म भरने की परसेंटेज की बात करें तो सिर्फ आपको ग्रेजुएशन पास होना चाहिए।

एसडीओ की एग्जाम पैटर्न

इस एग्जाम के तीन स्टेज होते हैं। पहला प्रीलिम्स दूसरा मेन्स और तीसरा इंटरव्यू। यानि कि आपको तीन राउंड होंगे गुजरना होगा एग्जाम में तीनों स्टेज पास कर लेने के बाद आप एसडीओ के लिए सेलेक्ट हो जाएंगे। अगर कोई स्टूडेंट ये सोच रहा है कि प्रिलिम्स और मेन्स क्लियर करने के बाद एसडीओ बन जाएंगे तो ये गलत है। आपको इंटरव्यू भी क्लियर करना होगा। अगर इंटरव्यू में सफल नहीं हुए तो आपको फिर से सारा एग्जाम देना होगा।

एसडीओ एग्जाम कितनी बार दे सकते है?

आपकी उम्र सीमा यानि की मैक्सिमम एज लिमिट तक आप एग्जाम में दे सकते हैं।

एसडीओ एग्जाम की सिलेबस

जैसा कि आपको पता है एग्जाम के तीन स्टेज होते हैं जिन प्रिलिम्स से ले मेरे बारे और इंटरव्यू या एग्जाम इस ऑडियो के लिए दिया जाने वाला पहला एग्जाम होता है जिसमें उम्मीदवार से अधिकतर जनरल नॉलेज, मैथ्स, रीजनिंग, आदि इन सभी के आब्जेक्टिव टाइप क्वेश्चन पूछे जाते हैं और याद रखें ये एग्जाम निगेटिव मार्किंग होता है।

जब उम्मीदवार ये एग्जाम पास कर लेते हैं तब वे एग्जाम पास कर लेने के बाद उन्हें दूसरे स्टेट्स यानि की मेन्स में बैठ सकते हैं। दोस्तो मेन्स एग्जाम स्टेट पीसीएस के लिए काफी इम्पॉर्टेंट होता है क्योंकि इसमें माक्र्स जो आएगा वो फाइनल सेलेक्शन के लिए मेरिट बनेगा ये इस की परीक्षा का दूसरा चरण होता है जिसमें उम्मीदवार को प्रथम चरण को पास करने के बाद ही बुलाया जाता है। इसमें कैंडिडेट वो रिटन टेस्ट देनी होती है तथा ये एग्जाम प्रिलिम्स से टफ होता है।

दोस्तो इसके बाद है थर्ड राउंड यानि की इंटरव्यू। जब आप प्रिलिम्स और मेन्स एग्जाम को क्लियर कर लेते हैं उसके बाद इंटरव्यू के लिए आपको बुलाया जाता है। इंटरव्यू 200 मार्क्स के पूछे जाते हैं। इसमें कुछ भी पूछा जा सकता है जैसे आप जिसे स्टेट से बिलॉन्ग करते हैं वहां के बारे में पूछा जा सकता है या खुद के बारे में या सब्जेक्ट से रिलेटेड सवाल पूछे जा सकते हैं। इसमें कुछ नहीं खास तौर पर इंटरव्यूअर को विश्वास दिलाना होता है कि आप इस पद के लिए उपयुक्त है।

एसडीओ के लिए फॉर्म कब अप्लाई करेंगे?

तो एसडीओ बनने के लिए जो आप फोन अप्लाई करेंगे सभी स्टेट का डेट अलग अलग होता है। जितने भी पीसीएस हैं वे अपने अपने अलग अलग टाइम के फोन को निकालते हैं। इसे आप ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर देख सकते हैं।

एसडीओ की सैलरी कितनी होती है?

हर एसडीओ की सैलरी हर स्टेट में डिफरेंट हो सकती है। जनरली एक एसडीओ की सैलरी पर मन 23 हजार 640 रुपए के आसपास हो सकती है जिसमें कि आपको एलाउंस और ग्रेड अलग से शामिल है। यह शुरुआत में नए भर्ती किये गए एसडीओ अधिकारी को मिलती है। सभी सुविधाएं और भत्ते को जोड़ने के बाद शुरुआती स्तर पर एसडीओ की सैलरी एकाउंट 51358 रुपये पार महीने सकती है। जैसे जैसे आपका सर्विस का ड्यूरेशन बढ़ता जाएगा वैसे वैसे आपकी सैलरी भी बढ़ती जाएगी।

एसडीओ बनने के लिए टिप्स

अगर आपने सोच लिया है एसडीओ ही बनना है तो पूरा ध्यान सिलेबस पर एकत्रित करें। साथ में जनरल स्टडीज करेंट अफेयर्स पर ज्यादा फोर्स करें डेली न्यूज पेपर पढ़ें टॉपर्स का इंटरव्यू देखें सबकी सुनें अपनी मन की करें और सब्जेक्ट अपने मन पसंदीदा ही चुनें।

ये भी पढ़े :

Author

Hi, I'm Mantu Sing, में hindimepro.in वेबसाइट का संस्थापक हूं। में इस वेबसाइट में जीबनी परिचय, फुल फॉर्म, जानकारी के बारे में पोस्ट लिखता हूं।

Write A Comment