OTT Full form in Hindi – OTT प्लेटफॉर्म्स क्या है?

आपको Hindimepro वेबसाइट में स्वागत है। इस पोस्ट में मेने OTT प्लेटफॉर्म्स क्या है, OTT Full form in Hindi, OTT Full form, OTT का फुल फॉर्म क्या है, OTT प्लेटफॉर्म्स काम कैसे करता है, OTT प्लेटफॉर्म्स पैसे कैसे कमाते है, दुनिया के सबसे फेमस OTT प्लेटफॉर्म, OTT प्लेटफॉर्म के फायदे, OTT प्लेटफॉर्म के नुकसान, OTT का मतलब क्या है बारे में बताया है।

OTT  प्लेटफॉर्म्स क्या है?

OTT का फुल फॉर्म Over The Top है। जब हम इन्टरनेट की मदद से वीडियो और ऑडियो कंटेंट अपने स्मार्टफोन, कंप्यूटर, लैपटॉप या स्मार्ट टीवी पर देखते हैं तो इस प्लेटफार्म को हम OTT प्लेटफार्म कहते हैं।

OTT प्लेटफार्म यानी ओवर द टॉप प्लेटफार्म इंटरनेट के माध्यम से काम करता है इसी लिए हम इस प्लेटफार्म को ओवर द टॉप कहते हैं। यह एक सुविधाजनक सेवा है जो पारंपरिक केबल या सेटेलाइट टीवी की आवश्यकता के बिना इंटरनेट पर टीवी और फिल्म कंटेंट की नई वितरण विधि बन गई है।

आसान भाषा में कहें तो OTT वह प्लेटफार्म है जो वीडियो और म्यूजिक कंटेंट को इंटरनेट के माध्यम से हमारे सभी तरह के डिवाइस पर उपलब्ध कराता है जैसे अगर हमें आज से कुछ सालों पहले तक कोई मूवी देखना होता है तो हम उसे हमें टेलीविजन पर या सिनेमा हॉल में देख सकते थे लेकिन आज वही मूवी हम अपने मोबाइल या स्मार्ट टीवी पर अपनी सुविधा के अनुसार घर बैठे अलग अलग तरह के OTT प्लेटफार्म पर आसानी से देख सकते हैं।

OTT प्लेटफार्म केवल, ब्रॉडकास्ट और सेटेलाइट टेलीविजन प्लेटफार्म जो आम तौर पर वीडियो कंटेंट के कंट्रोलर और डिस्ट्रिब्यूटर हुआ करते थे को बाइपास कर सभी तरह के वीडियो और म्यूजिक कंटेंट को सीधे यूजर तक इंटरनेट के माध्यम से पहुंचा देता है।

OTT Full form – OTT का फुल फॉर्म क्या है?

OTT Full Form In Internet

इंटरनेट में OTT का फुल फॉर्म Over The Top है।

OTT Full Form In File Extensions

फाइल एक्सटेंशन में OTT का फुल फॉर्म OpenDocument Text Template है।

OTT Full Form In Universities & Institutions

विश्वविद्यालयों और संस्थानों में OTT का फुल फॉर्म Overseas Trained Teacher है।

OTT Full Form In Business Terms

व्यापार की शर्तें में OTT का फुल फॉर्म Office of Technology Transfer है।

OTT Full Form In Security

सुरक्षा में OTT का फुल फॉर्म One Time Tape है।

OTT प्लेटफॉर्म्स काम कैसे करता है?

OTT प्लेटफार्म एक वेबसाइट की तरह ही है जिस पर बहुत सारे विडियो कंटेंट डाला गया है और उसे यूजर अपनी सुविधा के अनुसार देख सकते हैं जैसे Youtube भी एक OTT प्लेटफॉर्म ही है जिस वेबसाइट पर करोड़ों विडियो है। जिसे पूरी दुनिया में लोग देखते हैं।

OTT प्लेटफॉर्म से टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हैं जिसे कंटेंट डिलेवरी नेटवर्क या CDN भी कहते हैं। इस टेक्नोलॉजी के तहत OTT प्लेटफॉर्म दुनिया में कई जगह पर अपने यूजर्स की उपलब्धता के अनुसार अपना सर्वर स्थापित करते हैं जिससे दुनिया के अलग अलग हिस्से के लोग अपने नजदीकी सर्वर से कंटेंट आसानी से देख पाते हैं।

OTT प्लेटफॉर्म्स जिस क्वालिटी के साथ वीडियो कंटेंट हमारे स्मार्टफोन या स्मार्ट टीवी तक पहुंचा पाते हैं उसमें CDN टेक्नॉलजी का बहुत बड़ा योगदान है। CDN टेक्नॉलजी के कुछ फायदे की बात करें तो कंटेंट डिलिवरी नेटवर्क के तहत OTT प्लेटफॉर्म अपना सर्वर दुनिया में कई जगह पर लगाते हैं जिसके कारण उनका कंटेंट यूजर तक जल्दी बिना बफर के वे पहुंच जाता है मतलब लटेंसी बहुत कम रह जाता है। CDN का एक और बहुत बड़ा फायदा यह है कि अगर OTT प्लैटफॉर्म के किसी एक सर्वर लोकेशन पर कोई प्रॉब्लम आ जाती है तो उस एरिया के ही यूजर प्रभावित होंगे ना कि पूरी दुनिया के।

OTT प्लेटफॉर्म्स आज फ्यूचर को समझ चुके हैं और वह अपने यूजर्स को अच्छा एक्सपीरियंस देने के लिए सारे मॉडर्न टेक्नॉलजी का यूज कर रहे हैं। उसी के तहत आज लगभग सभी OTT प्लेटफॉर्म इंटरनेट सर्विस प्रवाइडर के साथ टाईअप करते हैं और अपना कंटेंट उनके सर्वर पर ही डाल देते हैं जिससे यूजर को वह कंटेंट सीधे इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर के पास से ही मिल जाता है ना कि OTT प्लैटफॉर्म के किसी दूर के सर्वर से। जिसके कारण अगर कोई पॉपुलर शो या मूवी एक साथ हजारों यूजर एक ही समय पर देखें फिर भी यूजर्स को कोई परेशानी नहीं होती है इसलिए कई लोग OTT प्लेटफॉर्म्स को स्मार्ट प्लेटफॉर्म भी कहते हैं।

कई और भी कारण हैं जिसके कारण आप OTT प्लेटफॉर्म को स्मार्ट पे हम कह सकते हैं। जैसे आप OTT प्लेटफॉर्म के कंटेंट को अपने स्मार्टफोन से लेकर बड़े से बड़े स्मार्ट टीवी पर भी देख सकते हैं। आपके विडियो प्लेइंग डिवाइस के अनुसार कंटेंट खुद को एडजस्ट कर लेता है साथ में यूजर का इंटरनेट स्पीड कैसा है के अनुसार ही कंटेंट यूजर तक पहुंचता है ताकि कंटेंट बफर न करे और यूजर इसमें वीडियो कंटेंट का मजा ले सके।

OTT प्लेटफॉर्म्स पैसे कैसे कमाते है?

OTT प्लेटफॉर्म्स सब्स्क्रिप्शन के जरिए कमाई करते हैं जैसे कोई व्यक्ति Netflix या Amazon Prime Video का सब्सक्रिप्शन लेता है तो यह उन प्लेटफॉर्म्स के लिए कमाई का जरिया हुआ। वहीं कुछ OTT प्लेटफॉर्म्स लोगों को मुफ्त कंटेंट दिखाते हैं लेकिन उन पर कंटेंट के साथ एडवर्टाइजमेंट भी आता है तो अगर आप बिना सब्सक्रिप्शन वाले OTT प्लेटफॉर्म पर कोई वीडियो कंटेंट देखेंगे तो हां आपको एडवरटाइजमेंट में देखना होगा जिससे इस तरह के OTT प्लेटफॉर्म से अपनी कमाई करते हैं।

दुनिया के सबसे फेमस OTT प्लेटफॉर्म

भारत और दुनिया के सबसे फेमस OTT प्लेटफॉर्म के बारे में बात करें तो Netflix, Amazon Prime Video, Hotstar, HBO Now, Sonyliv, Boot, Zee5, Alt Balaji, Jio Cinema, Viu आदि हैं। इसके अलावा भी हर दिन बड़ी तेजी से OTT प्लेटफॉर्म्स की संख्या बढती जा रही है।

OTT प्लेटफॉर्म के फायदे

  • OTT प्लेटफॉर्म के कई फायदे हैं और जिनके कारण आज इनके सब्सक्राइबर्स की संख्या बड़ी तेजी से बढ़ती जा रही है कुछ फायदों के बारे में बात करें तो सबसे पहला फायदा यह है कि OTT प्लेटफार्म पर हमें कंटेंट को किसी भी समय देखने की सुविधा मिलती है।
  • OTT प्लेटफार्म पर आप कोई भी विडियो कंटेंट अपनी सुविधा के अनुसार कभी भी देख सकते हैं। जैसे कि अगर आपको कोई मूवी टीवी पर देखना हो तो आपको टीवी के प्रसारण टाइम के अनुसार ही उस मूवी में देखना होगा जबकि OTT प्लेटफॉर्म पर आप अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी समय उस मूवी को देख सकते हैं।
  • दूसरा फायदा यह है कि हमें बिना एडवरटाइजमेंट के कंटेंट देखने को मिल जाता है। OTTप्लेटफॉर्म पर आप कोई भी कंटेंट बिना एडवर्टाइजमेंट के देख पाते हैं। इससे यूजर्स को एक बड़ा अच्छा एक्सपीरियंस मिलता है और यूजर कोई भी वीडियो कंटेंट सीमित समय में देख पाते हैं क्योंकि आप जानते हैं कि अगर आप टीवी पर कोई भी कंटेंट देखते हैं तो आपको कंटेंट से ज्यादा एडवरटाइजमेंट देखने को मिलता है उसमें ज्यादा समय चला जाता है।
  • OTT प्लेटफॉर्म का तीसरा फायदा ये होता है कि हम किसी कंटेंट को जितनी बार चाहें देख सकते हैं। ऐसा नहीं होता कि कोई कंटेंट एक बार देखने के बाद दुबारा देखने के लिए उपलब्ध न हो। हम जब चाहे फिर से उस कंटेंट को देख सकते हैं।
  • OTT प्लेटफॉर्म का चौथा फायदा यह होता है कि हम किसी भी डिवाइस पर वह कंटेंट देख सकते हैं जैसे नॉर्मल टीवी कंटेंट हमें टीवी पर ही देखना होता है। जबकि OTT कंटेंट हम अपने स्मार्टफोन, लैपटॉप, कंप्यूटर पर देख सकते हैं।
  • OTT प्लेटफॉर्म का पांचवा फायदा यह होता है कि हम ओटीटी कंटेंट दुनिया में कहीं भी बैठे देख सकते हैं। पुराने टीवी कंटेंट की तरह हमें टीवी के पास होने की जरूरत नहीं है। हम बेडरूम से ऑफिस से या कहीं घूमते हुए OTT कंटेंट देख सकते हैं।
  • OTT प्लैटफॉर्म का छठा फायदा यह होता है कि हमें OTT प्लेटफॉर्म पर कंटेंट को डाउनलोड कर अपनी सुविधा के अनुसार कभी भी देखने की सुविधा मिलती है। हम अपने OTT कंटेंट को अपने स्मार्टफोन या टैबलेट पर डाउनलोड कर सकते हैं और उन जगहों पर भी जँहा इंटरनेट की सुभीधा नहीं मिलती है उस कंटेंट का मजा ले सकते हैं। जैसे अगर आप हवाई जहाज में यात्रा कर रहे हों तो उस समय आपके मोबाइल का OTT कंटेंट आपके लिए बहुत काम आ सकता है।

OTT प्लेटफॉर्म के नुकसान

  • ऐसे तो OTT प्लेटफॉर्म का कोई बड़ा नुकसान नहीं है। लेकिन कुछ नुकसान के बारे में बात करें तो सबसे बड़ा नुकसान इसके सब्सक्रिप्शन के साथ है। कई OTT प्लेटफॉर्म के सब्सक्रिप्शन महंगे होते हैं क्यूंकि OTT इंटरनेट पर काम करता है इसलिए हमें हाईस्पीड इंटरनेट की जरूरत होती है मतलब ब्रॉडबैंड कनेक्शन पर एक्स्ट्रा पैसा खर्च करना पड़ता है।
  • OTT प्लेटफॉर्म्स के साथ लोगों को एक बड़ी परेशानी ये होती है कि अलग अलग OTT प्लेटफॉर्म पर अलग अलग कंटेंट होता है जिसके कारण कई बार लोगों को अपना मनपसंद कंटेंट देखने के लिए फिर से नए OTT प्लेटफॉर्म का सब्सक्रिप्शन लेना पड़ता है जिसमें एक बार फिर से पैसा खर्च करना पड़ता है। साथ में अगर आप इंटरनेट की स्पीड अच्छा नहीं है तो आप अच्छे क्वालिटी में OTT कंटेंट नहीं देख पाएंगे।

Hi, I'm Mantu Sing, में hindimepro.in वेबसाइट का संस्थापक हूं। में इस वेबसाइट में जीबनी परिचय, फुल फॉर्म, जानकारी के बारे में पोस्ट लिखता हूं।

Leave a Comment