MBBS Full Form In Hindi – एमबीबीएस कोर्स कैसे करे?

आपको HindiMePro वेबसाइट में स्वागत है। इस पोस्ट में मेने एमबीबीएस कोर्स क्या है, एमबीबीएस की फुल फॉर्म क्या है ( MBBS Full Form In Hindi ), एमबीबीएस कोर्स के लिए एलिजिबिलिटी, एमबीबीएस कोर्स के लिए ऐज कितना चाइये, एमबीबीएस की फुल मीनिंग के बारे में बताया है।

एमबीबीएस कोर्स क्या है?

एमबीबीएस का पूरा नाम है बैचलर ऑफ मेडिसिन एंड बैचलर ऑफ सर्जरी। जो भी स्टूडेंट्स मेडिकल फील्ड में आगे अपना करियर बनाना चाहते हैं 12th के बाद उनके लिए ये कोर्स मोस्ट पॉपुलर कोर्स है। इसके अलावा और भी कई सारे कोर्स हैं जिनके जरिए आप मेडिकल फील्ड में अपना करियर बना सकते हैं लेकिन जो एमबीबीएस का कोर्स मोस्ट पॉपुलर कोर्स है।

अगर बात की जाए इंजीनियरिंग फील्ड की तो इंजीनियरिंग फील्ड की तुलना में जो मेडिकल लाइन है वो काफी कठिन है। एमबीबीएस जो मेडिकल कोर्स है ये मस्ट रेपुटेड डिग्री में से एक है और एमबीबीएस एक अंडरग्रेजुएट अकैडमिक डिग्री है जिसमें हम मेडिसिन और सर्जरी के बारे में पढ़ते हैं। ये एकमात्र ऐसा बैचलर डिग्री है जिसे पूरा करने के बाद जो भी स्टूडेंट पूरा करते हैं वो अपने नाम के साथ डॉक्टर वार्ड लगाने के एलिजिबल हो जाते हैं।

MBBS Full Form In Hindi – एमबीबीएस का फुल फॉर्म क्या है?

मेडिकल में एमबीबीएस का फुल फॉर्म Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery है।

एमबीबीएस कोर्स के लिए एलिजिबिलिटी

जो कोर्स हैं ये 5.5 साल का होता है। इसके बाद क्वालिफिकेशन की अगर हम बात करें तो एमबीबीएस में एडमिशन लेने के लिए आपको 12th पास होना जरूरी है और आपके पास pcb सब्जेक्ट होना चाहिए pcb का मतलब है फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी मैथ ना हो तब भी चलेगा लेकिन बायोलॉजी होना कंपल्सरी है।

आपके पास 12th में कम से कम 50 परसेंट मा‌र्क्स होना जरूरी है। इसके अलावा जो रिजर्व्ड कैटिगरी के कैंडिडेट हैं उनको मार्क्स में थोड़ा छूट मिल जाता है तो इस हिसाब से रिजर्व्ड कैटिगरी के लिए जो मार्क्स रखा गया है वो कम से कम 40 परसेंट होना चाहिए।

एमबीबीएस कोर्स के लिए ऐज कितना चाइये

एमबीबीएस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए जो एज लिमिट है वो क्या है तो एज लिमिट 17 से 25 इयर्स यानि की आपकी जो कम से कम उम्र होनी चाहिए वो 17 वर्ष होनी चाहिए और ज्यादा से ज्यादा 25 और 25 से ज्यादा एज के अगर आप हैं तो आप इस कोर्स में एडमिशन नहीं ले पाएंगे। और अगर आप 17 से कम उम्र के हैं तभी आप इस कोर्स में एडमिशन नहीं ले सकते हैं। तो इसीलिए इस कोर्स को एक एज लिमिट रखी गई है 17 से 25 ईयर्स। एज लिमिट में 5 इयर्स का छुट्टी भी मिलता है रिजर्व्ड कैंडिडेट्स को यानि की एससी एसटी और ओबीसी कैटिगरी के जो कैंडिडेट्स होते हैं उन्हें।

एमबीबीएस कोर्स के लिए फीस कितना चाइये

एमबीबीएस जो कोर्स है इसका फीस कितना होता है। इसका फीस 1 लाख से 10 लाख लगभग आपका एक ईयर का जाता है। इसके अलावा जो प्राइवेट कॉलेज की फीस होती है वो इससे काफी ज्यादा होती है यानि कि 22 से 23 लाख पार ईयर जा सकता है एक प्राइवेट कॉलेज में।

एमबीबीएस कोर्स के एडमिशन प्रोसेस

एमबीबीएस मेडिकल कोर्स का जो एडमिशन का प्रोसेस है ये एंट्रेंस एग्जाम के जरिए होता है। इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए कई सारे मोस्ट पॉपुलर एंट्रेंस एग्जाम हैं जिनमें से आप किसी भी एग्जाम को देकर इस कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं। पेहेला नंबर आता है NEET एग्जाम। इसके बाद है AIIMS और फिर PGMER और JIPMER, फंगे और AMFC. ये सारे एंट्रेंस एग्जाम के नाम हैं जो कि पापुलर है। इसके अलावा और भी बहुत सारे एंट्रेंस एग्जाम कराए जाते हैं इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए।

एमबीबीएस कोर्स के सिलेबस

जो एंट्रेंस एग्जाम का सिलेबस होता है ये ट्वेल्थ बेस पे होता है जो भी आपको ट्वेल्थ का सिलेबस होता है उसी से रिलेटेड आपके कुशंस पूछे जाते हैं। पीसीबी सब्जेक्ट से फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी इन्हीं सब्जेक्ट के कुशंस पूछे जाते हैं एंट्रेंस एग्जाम में।

एमबीबीएस कोर्स पूरा करने के बाद क्या कर सकते है

इस कोर्स को कंप्लीट करने के बाद हॉस्पिटल्स, मेडिकल कॉलेज, मेडिकल ट्रस्ट इस तरह से कई सारे एरिया है जिनमें आप वर्क कर सकते हैं। बायोमेडिकल कंपनीज, सेल्फ आम्र्स क्लीनिक यानि आप खुद का क्लीनिक खोल सकते हैं। रिसर्च इंस्टीट्यूट्स में भी आप काम कर सकते हैं। हेल्थ सेंटर्स में काम कर सकते हैं। इसके अलावा आप फार्मास्युटिकल एंड बायोटेक्नोलॉजी कंपनीज में काम कर सकते हैं।

एमबीबीएस कोर्स कम्पलीट करने के बाद सैलरी कितना होगी

एमबीबीएस कोर्स कंप्लीट करने के बाद जो सैलरी होगी वो 3 से 6 लाख हर साल की होती है।

ये भी पढ़े :

Hi, I'm Mantu Sing, में hindimepro.in वेबसाइट का संस्थापक हूं। में इस वेबसाइट में जीबनी परिचय, फुल फॉर्म, जानकारी के बारे में पोस्ट लिखता हूं।

Leave a Comment