हेलो दोस्तो कैसे हो आप उम्मीद करता हूं आप सब अच्छे होंगे। आप सभी को HindiMePro वेबसाइट में स्वागत है। आज फिर से आपके लिए और एक नया पोस्ट लेके आया हूं आज में आपको ISRO से जुडी पूरी जानकारी दूंगा की ISRO क्या है, ISRO में जॉब कैसे करे बारे में।

जब भी धरती पर किसी भी तरह की आपदाएं आती हैं जैसे बाढ़ सुनामी भूकंप चक्रवात तेज बारिश इत्यादि तो अभी के समय में इसकी जानकारी वैज्ञानिकों को पहले से ही मिल जाती है जिससे लाखों लोगों की जान बचाना मुमकिन हो जाता है लेकिन पहले ऐसा नहीं था। प्राकृतिक आपदाएं आती थीं तो लाखों लोगों की जानें चली जाती थीं और सरकार को भी भारी नुकसान चुकाना पड़ता था।

हमारे देश के वैज्ञानिकों के कारण अब मौसम संबंधी पूर्वानुमान के माध्यम से प्राकृतिक आपदाओं के बारे में जानकारी हम लोगों तक पहुंच पा रही है। लेकिन क्या आप जानते हैं वैज्ञानिकों तक इसकी जानकारी कैसे पहुंचती है। हर देश का एक रिसर्च ऑर्गनाइजेशन होता है जहां पर कई सारे वैज्ञानिक काम करते हैं और अंतरिक्ष पर मौजूद सेटेलाइट की मदद से धरती पर हो रही गतिविधियों की जानकारी पता करते हैं।

भारत में स्थित रिसर्च ऑर्गनाइजेशन का नाम है इसरो। इसरो में हजारों कर्मचारी मिलकर देश के लिए काम करते हैं। आज के समय में विज्ञान से जुड़ी या फिर अंतरिक्ष से जुड़ी कोई भी बात होती है तो इसरो का नाम टीवी और अखबारों पर आने लगता है। अगर आप भी इसरो में काम करने का सपना देखते हैं तो आज के इस पोस्ट में हम आपको इसरो में जॉब के लिए आवेदन कैसे करना है और जॉब के लिए क्या क्या क्वालिफिकेशन होनी चाहिए। इन सबकी जानकारी देने वाले हैं इसलिए पोस्ट को अंत तक ज़रूर पढ़िए।

ISRO क्या है?

तो सबसे पहले हम जानेंगे कि ISRO क्या हैISRO का पूरा नाम है Indian Space Research Organisation जिसे हिंदी में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन कहा जाता है। इसे भारत सरकार के स्पेस डिपार्टमेंट द्वारा मैनेज किया जाता है और स्पेस सेंटर में होने वाले प्रत्येक कार्य की रिपोर्ट सीधे भारत के प्रधानमंत्री को पहुंचाई जाती है।

ISRO भारत का राष्ट्रीय अंतरिक्ष संस्थान है जिसका मुख्यालय बेंगलूर में इसकी स्थापना 15 अगस्त उन्नीस 1969 में की गई थी और इसकी स्थापना मशहूर वैज्ञानिक विक्रम अंबालाल साराभाई के प्रयासों के द्वारा हुई थी। इसीलिए डॉक्टर विक्रम साराभाई को भारत में अंतरिक्ष कार्यक्रमों का संस्थापक जनक माना जाता है। इस संस्थान का मुख्य कार्य भारत के लिए अंतरिक्ष संबंधी तकनीक उपलब्ध करवाना है।

ISRO दुनिया की टॉप फाइव सबसे बड़ी अंतरिक्ष एजेंसियों में से एक है और अब तक इसरो ने अंतरिक्ष में 370 सैटेलाइट भेज चुका है जिसमें से 101 भारत के लिए और दूसरा 69 विदेशों के लिए सेटेलाइट भेजे जा चुके हैं। हाल ही में चंद्रयान टू की सफलता के बाद अब भारत द्वारा अंतरिक्ष में तीसरा संजीवन सैटेलाइट्स भेजे जा चुके हैं। भारत का पहला सैटेलाइट 19 अप्रैल 1975 को लॉन्च किया गया था जिसका नाम गणितज्ञ आर्यभट के नाम पर रखा गया था। इसके बाद रोहिणी एक भारतीय निर्मित लॉन्च व्हीकल कर थी द्वारा आर्बिट में रखा जाने वाला पहला सेटेलाइट 18 जुलाई 1980 को लॉन्च किया गया। इसी तरह से ISRO ने ऐसी कई सारी उपलब्धियां हासिल की हैं जिस वजह से इसे दुनिया के सबसे बेहतरीन स्पेस एजेंसियों में से एक माना जाता है।

ISRO ने दूरसंचार टेलीविजन प्रसारण मौसम विज्ञान और आपदा चेतावनी के लिए भारतीय राष्ट्रीय उपग्रह यानी इंडियन नेशनल सैटेलाइट इनसैट प्रणाली और धरती के संसाधन निगरानी और प्रबंधन के लिए भारतीय रिमोट सेंसिंग यानी इंजन रिमोट सेंसिंग IRS सेटेलाइट सहित कई अंतरिक्ष प्रणालियों का शुभारंभ किया है। ISRO साल 2021 में अंतरिक्ष यात्रियों को आर्बिट में लाने की योजना बना रहा है। ISRO का सबसे महत्वपूर्ण मिशन ये है कि वे अंतरिक्ष विज्ञान की सहायता से कुछ ऐसे ग्रहों की खोज करना चाहते हैं जो कि हमारी पृथ्वी की विकास और जीवन को एक नया रूप प्रदान कर सकें। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं दोस्तो कि भारत अंतरिक्ष कार्यक्रमों में कितनी तेजी से आगे बढ़ रहा है। ऐसे में इसरो के लिए काम करना हमारे लिए कितनी गर्व की बात हो सकती है।

ISRO में नौकरी के लिए आवेदन कैसे करें?

तो चलिए अब जानते हैं ISRO में नौकरी के लिए आवेदन कैसे करें। दोस्तो ISRO दुनिया की सबसे बड़ी और सबसे सफल अंतरिक्ष एजेंसियों में से एक है। साथ ही ये विज्ञान विषय से जुड़े युवाओं के लिए नौकरी के नए नए अवसर भी प्रदान करता है।

ISRO समय समय पर आवश्यकताओं के अनुसार कर्मचारियों की भर्ती करता है। यदि आप भी अंतरिक्ष के रहस्यों के साथ भविष्य के निर्माण में रूचि रखते हैं या भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रमों का हिस्सा बनना चाहते हैं तो आपको ISRO में अपना सपना पूरा करने का अवसर ज़रूर मिलेगा। ISRO युवाओं के लिए चुनौती पूर्ण अवसर उपलब्ध कराता है जहां युवाओं को इनोवेटिव टेक्नॉलजीज का विकास करने तथा अंतरिक्ष की खोज के लिए आवश्यक उन्नत तकनीकी की स्थापना करने में शामिल होने का अवसर प्रदान किया जाता है।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि इसरो में दूसरी बार भी ग्रैजुएट पोस्ट ग्रेजुएट इंजीनियर्स साइंटिस्ट्स आदि सभी कैंडिडेट्स नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं। ISRO कैंडिडेट्स को स्पेस साइंटिस्ट और इंजीनियर्स के लिए ही नियुक्त करती है। यंग ग्रेजुएट्स को तो आमतौर पर इलेक्ट्रॉनिक्स मकैनिकल इलेक्ट्रिकल सिविल कंप्यूटर विज्ञान आदि जैसे क्षेत्रों में वैज्ञानिक इंजीनियर के रूप में भर्ती किया जाता है।

ISRO में नौकरी करना चाहते हैं तो आपको इसकी ऑफिशियल वेबसाइट www.isro.gov.in पर जाकर अप्लाई करना होगा। इसके लिए आपको आफिशियल वेबसाइट में जाने के बाद इसके होमपेज पर करियर स्टैप के ऊपर क्लिक करना है और अपनी क्वालिफिकेशन के आधार पर अपने मनचाहे पद पर आवेदन करना है और सारी डिटेल्स भरने के बाद सबमिट बटन पर क्लिक करना है। इसके बाद आपके द्वारा भेजे गए डिटेल्स के हिसाब से कैंडिडेट्स को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा और उन्हें रिटन एग्जाम के लिए बुलाया जाएगा। रिटन एग्जाम में सफल हुए कैंडिडेट्स को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है और इस तरह से ISRO अपने यहां काम करने के लिए के निकट को नियुक्त करता है।

ISRO में जॉब के लिए क्या क्या क्वालिफिकेशन होनी चाहिए?

तो अब चली जानते हैं कि ISRO में जॉब के लिए क्या क्या क्वालिफिकेशन होनी चाहिए। इसरो में साइंटिस्ट और इंजीनियर पद में नौकरी करने के लिए बीई बीटेक बीएससी इंजीनियरिंग आईटीआई डिप्लोमा एमएससी एमफिल पीएचडी आदि में से किसी भी एक में डिग्री होनी चाहिए। जिनके कैंडिडेट्स ने सिविल इलेक्ट्रिकल मैकेनिकल इलेक्ट्रॉनिक्स कंप्यूटर साइंस जैसे फील्ड में कोर्स किया है वे ही आवेदन कर सकते हैं। कैंडिडेट्स के पास कम से कम सिक्स डिफाइन पैसेज कल्याण मा‌र्क्स होने चाहिए।

साथ ही ISRO में भर्ती के लिए उम्र सीमा की जनरल कैटेगरी के उम्मीदवारों की साल होती है 35 और SC, ST के स्टूडेंट्स को पांच साल की छूट दी जाती है तो अगर आप 12वीं करने के बाद ISRO से जुड़ने के बारे में सोच रहे हैं तो उसके लिए सबसे पहले आपको इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल करनी होगी। इसके लिए आपके बाहरवीं कक्षा में maths और physics जैसे विषय होनी चाहिए। इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद अंतरिक्ष एजेंसी में शामिल होने के लिए आपको इसरो सेंट्रलाइज्ड रिक्रूटमेंट बोर्ड ICR में परीक्षा देकर सफलता हासिल करनी होगी।

इसके अलावा आप ISRO में सीधी भर्ती के लिए बाहरवीं के बाद Indian Institute of Space Science and Technology ( IIST ) तिरुवंतपुरम में प्रवेश ले सकते हैं। इस इंस्टीटय़ूट में दाखिला लेने के लिए कैंडिडेट्स को IIT जेईई का एग्जाम देना जरूरी होता है और इसमें अच्छी रैंक के आधार पर ही आपको IIT,  NIT में दाखिला मिल सकता है। IIT में दाखिला कब और कैसे लेना है इसकी पूरी जानकारी आपको इसकी ऑफिशल वेबसाइट www.iist.ac.in पर मिल जाएगी। आईएसटी में आपको किसी भी डिग्री के कोर्स में सेवंती फाइव परसेंट अंक रखना जरूरी होता है।

उसके बाद ही इसरो के पास जो भी वेकेंसी होती है उसमें आपको भर्ती दी दी जाती है। अगर आपने 12वीं के बाद आईएसटी के अलावा किसी अन्य इंस्टिट्यूट से ग्रैजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की है जैसे आईआईटी और एनआईटी। तब भी आप इसरो में जॉब पाने के लिए आवेदन कर सकते हैं। ऐसे कैंडिडेट्स के लिए ISRO आईसीएआर एग्जाम आयोजित करता है जिसमें सफलता हासिल करने के बाद ISRO इंटरव्यू लेकर कैंडिडेट्स का चुनाव करता है। इस एग्जाम का नोटिफिकेशन ISRO की ऑफिशल वेबसाइट www.isro.gov.in पर आता है।

ISRO में नौकरी पाने के बाद सैलरी और अन्य सुविधाएं क्या मिलती हैं?

चलिए अब जानते हैं कि ISRO में नौकरी पाने के बाद सैलरी और अन्य सुविधाएं क्या मिलती हैं। इसरो में अलग अलग पदों के हिसाब से सैलरी दी जाती है और इसकी शुरुआती सैलरी होती है 15 हजार 600 से लेकर 39 हजार सौ रुपये तक प्रतिमाह मिलती है। अगर इसरो में साइंटिस्ट और इंजीनियर्स की सैलरी की बात की जाए तो उन्हें प्रति महीने 50 हजार या उससे भी ज्यादा सैलरी मिलती है। सैलरी के अतिरिक्त कर्मचारियों को आवास और ट्रांसपोर्ट की सुविधा भी दी जाती है। साथ ही मेडिकल की सुविधा कर्मचारी और उसके परिवार वालों को भी दी जाती है।

आज हमने क्या सीखा?

आज की पोस्ट में हमने सीखा की ISRO के बारे में की ISRO क्या है, ISRO में नौकरी पाने के बाद सैलरी और अन्य सुविधाएं क्या मिलती हैं, ISRO में जॉब के लिए क्या क्या क्वालिफिकेशन होनी चाहिए, ISRO में नौकरी के लिए आवेदन कैसे करें बारे में उम्मीद करता हूं ये पोस्ट आपको अच्छा लगा होगा अच्छा लगा हो तो इस पोस्ट को आप अपनी दोस्तो के साथ जरूर शेयर कर देना उनको भी पता चले की ISRO क्या है बारे में। तब तक के लिए जय हिन्द।

Author

Hi, I'm Mantu Sing, में hindimepro.in वेबसाइट का संस्थापक हूं। में इस वेबसाइट knowledge, Full Form, Biography, Trending Topic के बारे में हिंदी में पोस्ट लिखता हूं।

Write A Comment