आपको HindiMePro वेबसाइट में स्वागत है। इस पोस्ट में मेने सीटी स्कैन क्या होता है, CT Full Form In Hindi, CT Full Form, Full Form Of CT, सीटी का पूरा नाम क्या है, सीटी का फुल फॉर्म क्या है, सीटी स्कैन क्यों किया जाता है, सीटी स्कैन कैसे किया जाता है, शरीर के किन हिस्सों का सिटी स्कैन किया जाता है बारे में बताया है।

सीटी स्कैन होता क्या है?

सीटी का पूरा नाम है Computed tomography है। ये एक ऐसा टेस्ट है जिसमें कंप्यूटर और घूमती हुई एक्सरे मशीन की सहायता से शरीर के अलग अलग भागों की क्रॉस सेक्शन यानी टुकड़ों में इमेजेस ली जाती है।

नॉर्मल एक्सरे इमेज के मुकाबले सीटी स्कैन में ज्यादा डिटेल्स और क्लियर जानकारी हासिल होती है।

सीटी स्कैन में शरीर के सॉफ्ट सेल्स ब्लड वेसल्स और हड्डियों से रिलेटेड डिसऑर्डर के फोटो क्लियर दिखाई पड़ते हैं।

सीटी स्कैन का इस्तेमाल सिर, कंधे, रीढ़ की हड्डी, दिल, पेट, घुटने और छाती से जुड़ी प्रॉब्लम्स के डायग्नोसिस के लिए किया जाता है।

आमतौर पर सीटी स्कैन से शरीर के हरेक हिस्से का क्लियर इमेज देखा जा सकता है और रोगों के डायग्नोसिस चोट और सर्जिकल और रेडिएशन ट्रीटमेंट के लिए सीटी स्कैन किया जाता है।

सीटी का फुल फॉर्म क्या है – CT Full Form In हिंदी

CT Full Form In Medical

मेडिकल में सीटी का फुल फॉर्म Computed Tomography है।

CT Full Form In Postal Codes

डाक कोड में सीटी का फुल फॉर्म Connecticut है।

CT Full Form In Electrical

विद्युतीय में सीटी का फुल फॉर्म Current Transformer है।

CT Full Form In Towns & Cities

शहर और शहर में सीटी का फुल फॉर्म Catania है।

CT Full Form In Journals & Publications

पत्रिकाओं और प्रकाशन में सीटी का फुल फॉर्म Computer Technik है।

CT Full Form In Biochemistry

जीव रसायन में सीटी का फुल फॉर्म Calcitonin है।

CT Full Form In Psychology

मनोविज्ञान में सीटी का फुल फॉर्म Cognitive Therapy है।

CT Full Form In Biology

जीवविज्ञान में सीटी का फुल फॉर्म Connective Tissue है।

CT Full Form In Security & Defence

सुरक्षा और रक्षा में सीटी का फुल फॉर्म Counter Terrorism है।

CT Full Form In Companies & Corporations

कंपनियों और निगमों में सीटी का फुल फॉर्म Canadian Tire है।

CT Full Form In Land Transport

भूमि परिवहन में सीटी का फुल फॉर्म Community Transit है।

CT Full Form In Towns & Cities

शहर और शहर में सीटी का फुल फॉर्म Cape Town है।

CT Full Form In Security

सुरक्षा में सीटी का फुल फॉर्म Certificate Transparency है।

CT Full Form In Military

सैन्य में सीटी का फुल फॉर्म Cryptologic Technician है।

सीटी स्कैन क्यों किया जाता है?

शरीर में चोट और दूसरे डिस्ऑर्डर का इलाज शुरू करने से पहले डॉक्टर मरीज को सीटी स्कैन कराने की सलाह देते हैं।

सीटी स्कैन की रिपोर्ट से यह क्लियर हो जाता है कि मरीज के शरीर का कौन सा भाग किस वजह से अफेक्टेड है।

सीटी स्कैन में लगने वाला टाइम इस बात पर डिपेंड करता है कि शरीर के किस भाग का सीटी स्कैन किया जा रहा है।

सीटी स्कैन कैसे किया जाता है?

सीटी स्कैन आमतौर पर हॉस्पिटल्स और रेडियोलॉजी क्लीनिक में किया जाता है। इस दौरान सीटी स्कैन कराने वाले पर्सन को सीटी स्कैन कराने से कुछ घंटे पहले तक कुछ खाने पीने से मना किया जाता है।

इसके अलावा सीटी स्कैन होने से पहले पर्सन मैटल का अगर कोई जेवर पहनना हो तो उसे उतार ले जाता है।

सीटी स्कैन रेडियोलॉजी टेक्नोलॉजिस्ट करते हैं। इस टेस्ट के दौरान एक बड़ी डोनट आकार वाली सीटी मशीन के अंदर एक टेबल पर लिटा दिया जाता है।

सीटी स्कैन के दौरान एक नैरो एक्सरे बीम का इस्तेमाल किया जाता है जो शरीर के एक हिस्से के चारों ओर घूमता है। यह कई अलग अलग एंगल से इमेजेस की एक चेन बनाता है।

शरीर के उस भाग का क्रॉस इमेज बनाने के लिए कंप्यूटर इस जानकारी का यूज करता है। रोटी के एक टुकड़े की तरह कंप्यूटर भी शरीर के अंदर का 2D इमेज दिखाता है। कई टुकड़ों में इमेजेस हासिल करने के लिए ये प्रोसेस दोहराया जाता है।

इसके बाद कंप्यूटर इन इमेजेज को स्कैन को थ्रीडी इमेज में बदल देता है जिन्हें डॉक्टर बहुत क्लियर तरीके से देख पाते हैं। इसमें हड्डियों ब्लड वेसल्स के साथ साथ कई दूसरे हिस्सों की इमेजेस क्लियर दिखाई देती हैं।

शरीर के किन हिस्सों का सिटी स्कैन किया जाता है?

सीटी स्कैन एक इमेजिंग टेक्नीक है। इस टेक्नीक के जरिए डॉक्टर्स कई समस्याओं का निदान करते हैं जैसे कि दिमाग में चोट खोपड़ी यानि स्कल फ्रैक्चर होने और ब्लीडिंग के डायग्नोसिस के लिए सीटी स्कैन किया जाता है।

ब्रेन में ब्लड के प्लॉट्स और ब्रेन ट्यूमर और बढ़ी हुई ब्रेन बैटरी का इसके डायग्नोसिस के लिए सीटी स्कैन किया जाता है।

इन्फेक्शन मांसपेशियों और जोड़ों में समस्या और हड्डियों में फ्रेक्चर और ट्यूमर के डायग्नोसिस के लिए सीटी स्कैन किया जाता है।

ब्लड वेसल्स और दूसरे इंटर्नल स्ट्रक्चर की जांच के लिए सीटी स्कैन किया जाता है।

अंदरूनी चोटों और अंदरूनी ब्लीडिंग के डायग्नोसिस के लिए सीटी स्कैन किया जाता है।

सर्जरी और बायोप्सी जैसे प्रोसेस के बारे में जानने के लिए सीटी स्कैन किया जाता है।

कैंसर और दिल के रोगों के साथ साथ कुछ दूसरी बीमारियों के उपचार की प्रभावशीलता का पता लगाने के लिए भी सीटी स्कैन किया जाता है।

किसी एक्सिडेंट के बाद होने वाली इंटर्नल ब्लीडिंग के डायग्नोसिस के लिए भी सीटी स्कैन किया जाता है।

सीटी स्कैन कराने में कितना खर्चा आता है?

सीटी स्कैन कराने की कीमत हर एक शहर में अलग अलग होती है लेकिन आमतौर पर सरकारी हॉस्पिटल्स में सीटी स्कैन कराने का खर्चा 500 से लेकर 1000 रुपए के बीच में आता है।

जबकि प्राइवेट हॉस्पिटल्स में 2000 रुपए से लेकर 5000 रुपए के बीच में होता है। ब्रेन का एक नार्मल सीटी स्कैन कराने का खर्चा 1100 से लेकर 2000 रुपए का पड़ता है। जबकि शरीर के अलग अलग भागों के सीटी स्कैन के आधार पर हर एक क्लिनिक में इसकी फीस अलग अलग होती है।

सीटी स्कैन से होने वाले कुछ नुकसान

  • सीटी स्कैन के दौरान मशीन से कई खतरनाक रेडिएशन निकलते हैं। कभी कभी इनके इफेक्ट से इस स्किन में एलर्जी पैदा हो सकती है और बाल टूटने की प्रॉब्लम भी हो सकती है।
  • कुछ लोगों को कॉन्ट्रास्ट चीजों से एलर्जी होती है। हालांकि सीटी स्कैन के दौरान इन चीजों के इफेक्ट में आने से इनका रिएक्शन बहुत हल्का होता है लेकिन शरीर में खुजली होने और चकत्ते निकलने की प्रॉब्लम हो सकती है।
  • अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं और मेड फॉर मेन जैसी दवा का इस्तेमाल करते हैं तो सीटी स्कैन कराने से पहले अपने डॉक्टर को जरूर बताये डॉक्टर आपको सलाह देंगी कि सीटी स्कैन कराने से पहले आपको दवा खानी है या बंद करनी है क्योंकि इन दवाओं के इस्तेमाल से नुकसान हो सकता है।
  • अगर आपको किडनी से जुड़ी कोई प्रॉब्लम है तो सीटी स्कैन कराने से पहले अपने डॉक्टर को जरूर बताइए क्योंकि कॉन्ट्रेक्ट मैटेरियल्स के कॉन्टेक्ट में आने से किडनी की प्रॉब्लम बढ़ सकती है।
  • सीटी स्कैन के दौरान जी मिचलाने और उल्टी की प्रॉब्लम हो सकती है इसलिए सीटी स्कैन कराने से कुछ घंटे पहले तक कुछ भी खाने पीने से मना किया जाता है।
  • प्रेग्नेंट महिलाओं को प्रेग्नेंसी के पहले तीन महीनों में सीटी स्कैन कराने से बचना चाहिए वरना मिसकैरेज हो सकता है।
Author

Hi, I'm Mantu Sing, में hindimepro.in वेबसाइट का संस्थापक हूं। में इस वेबसाइट knowledge, Full Form, Biography, Trending Topic के बारे में हिंदी में पोस्ट लिखता हूं।

Write A Comment