Full Form

BPO Full Form In Hindi – बीपीओ या कॉलसेंटर जॉब क्या है?

हेलो दोस्तो कैसे हो आप लोग उम्मीद करता हूं आप सब अच्छे होंगे। आप सभी को HindiMePro वेबसाइट में स्वागत है। आज फिर से आपके लिए और एक नया पोस्ट लेके आया हूं। आज में आपको call सेंटर या बीपीओ के बारे में पूरी जानकारी दूंगा। दोस्तो आज हम इस पोस्ट में जानेंगे कि कॉल सेंटर क्या है या बीपीओ क्या है, बीपीओ की पूरा नाम क्या है ( BPO Full Form In Hindi )। अगर आप कॉलसेंटर में जॉब लेना चाहते हैं तब आप पोस्ट को लास्ट तक पढ़ना। मैं पोस्ट में आपको बीपीओ के बारे में पूरी जानकारी दूंगा किस तरह से आप इसमें जॉब ले सकते हैं, एलिजिबिलिटी क्या रहती है, क्या सैलरी होता है, काम क्या रहता है यह सारी जानकारी मैं आपको पोस्ट में दूंगा।

कई स्टूडेंट होते हैं जो अपनी स्टडी के साथ मैं पैसा कामना चाहते हैं पार्ट टाइम जॉब करना चाहते हैं तो उनके लिए कॉल सेंटर बेस्ट ऑप्शन होता है। साथ ही साथ कुछ स्टूडेंट्स ऐसे भी हैं जो अपनी स्टडी पर फोकस तो करते हैं साथ में जो छुट्टियां या एग्जाम के बाद वो पार्ट टाइम जॉब या फुलटाइम जॉब सर्च करते हैं। उस टाइमिंग के लिए तो उनके लिए भी पार्ट टाइम जॉब मैं कॉल सेंटर जॉब बेस्ट रहती हैं। इसके बारे में मैं आपको पोस्ट में बताऊंगी कि किस तरह से इसमें आप जॉब ले सकते हैं।

कॉलसेंटर या बीपीओ क्या है?

कॉलसेंटर जॉब को बीपीओ कहा जाता है। बीपीओ का फुल फॉर्म है Business Process Outsourcing हम कॉलसेंटर या बीपीओ उसको कह सकते हैं जब हमें कोई समस्या होती है किसी भी तरह की लाइक में जैसे कि फोन में हमें सिम की प्रॉब्लम होती है या बैंक से रिलेटेड कोई प्रॉब्लम है या अन्य कोई प्रॉब्लम है तब हम उससे रिलेटेड फील्ड या कंपनी के कस्टमर केयर को कॉल करते हैं जो हमारी समस्या का समाधान करता है।

आज सभी कंपनी अपने कस्टमर्स को बेस्ट फैसिलिटी प्रोवाइड करने के लिए कस्टमर केयर सर्विस प्रोवाइड करती हैं जिस पर कस्टमर कभी भी कॉल करके अपनी प्रॉब्लम सॉल्व कर सकते हैं यह सलाह ले सकते हैं। यही कॉलसेंटर जॉब या कॉलसेंटर सर्विस कहलाती है सो आप ये समझ गए कॉलसेंटर क्या है।

बीपीओ का पूरा नाम क्या है – BPO Full Form In Hindi

BPO Full Form In Business Terms

व्यापार की शर्तें में बीपीओ का फुल फॉर्म Business Process Outsourcing है।

BPO Full Form In Chemistry

रसायन विज्ञान में बीपीओ का फुल फॉर्म Benzoyl Peroxide है।

BPO Full Form In Musical groups

संगीत समूह में बीपीओ का फुल फॉर्म Berlin Philharmonic Orchestra है।

BPO Full Form In Finance

वित्त में बीपीओ का फुल फॉर्म Bank Payment Obligation है।

" } } , { "@type": "Question", "name": "BPO Full Form In Chemistry", "acceptedAnswer": { "@type": "Answer", "text": "

रसायन विज्ञान में बीपीओ का फुल फॉर्म Benzoyl Peroxide है।

" } } , { "@type": "Question", "name": "BPO Full Form In Musical groups", "acceptedAnswer": { "@type": "Answer", "text": "

संगीत समूह में बीपीओ का फुल फॉर्म Berlin Philharmonic Orchestra है।

" } } , { "@type": "Question", "name": "BPO Full Form In Finance", "acceptedAnswer": { "@type": "Answer", "text": "

वित्त में बीपीओ का फुल फॉर्म Bank Payment Obligation है।

" } } ] }

बीपीओ के प्रकार

अब मैं आपको यहां पर बताऊंगा कॉल सेंटर 2 टाइप्स के होते हैं इनबांड और आउटबांड कॉल सेंटर। इनबांड में जो कस्टमर रहता है वो खुद कॉल करते हैं और अपनी जो प्रॉब्लम रहती है उसके लिए सॉल्व करने के लिए कस्टमर केयर पर कॉल करते हैं और सेकंड रहता है आउटबांड इसमें कस्टमर केयर कस्टमर को कॉल करते हैं जिसे आपने देखा होगा हमें जब प्रॉब्लम होती है तो हम कस्टमर केयर को कॉल करते हैं और अपनी प्रॉब्लम को सॉल्व करते हैं या हमें व सहायता करते हैं हमारी प्रॉब्लम को सॉल्व करने में। अगर आप देखें तो कई बार कंपनी की साइट से हमको फोन आता है ये जो कॉल आती हैं कंपनी साइट से वो कॉल सेंटर से आती है कस्टमर केयर से ही एक कॉल हमको की जाती है जैसे कि उनकी जो भी फैसिलिटी नया पॉलिसी अति है उसके बारे में हमें जानकारी दी जाती है तो यह इनबांड और आउटबांड।

बीपीओ में जॉब लेने के लिए क्या करना होगा?

अब हम देखते हैं कि अगर आप जॉब लेना चाहते हैं तो आपको क्या करना होगा। सबसे पहले न्यूजपेपर में कॉलसेंटर के लिए वेकेंसी कॉल सेंटर जॉब के लिए वैकेंसी जाती हैं विज्ञापन निकाले जाते हैं तो आप न्यूज पेपर चेक कर सकते हैं। साथ ही आप गूगल पर भी सर्च कर सकते हैं। गूगल पर भी कंपनी आज अपना जॉब वैकेंसीज हैं और उसके लिए आवेदन आमंत्रित करती हैं उसके लिए विज्ञापन निकालती हैं नोटिफिकेशन आउट करती हैं तो वो भी आप यहां पर सर्च कर सकते हैं।

गूगल पर वहां से भी आपको नॉलेज मिल जाएगी। इसके अलावा कॉलसेंटर में जॉब लेने के लिए कुछ स्कील हैं जो आपको आना जरूरी है जैसे कि हिंदी इंग्लिस की नॉलेज अच्छी होना हिंदी और इंग्लिश दोनों में अगर आपकी कमांड तो आपको प्रिफरेंस दिया जाएगा। इसके अलावा अगर आपको अलग जो भाषा हो वो भी अगर आपको आती है तो आपके लिए ये इसका जो प्रिफरेंस है वो आपको बिल्कुल दिया जाएगा। लेकिन आपको कंप्यूटर नॉलेज होना चाहिए क्योंकि कॉलसेंटर मजबूर करता है कंप्यूटर पर रहता है तो आपको कंप्यूटर की अच्छी नॉलेज होनी चाहिए टाइपिंग स्पीड आपक अच्छी होने चाहिए और साथ ही आपका गुड कम्युनिकेशन स्किल आपकी अच्छी होनी चाहिए ये कुछ स्किल्स हैं जो अगर आपके अंदर हैं तो कॉल सेंटर में जॉब मिलना आपको इजी हो जाता है।

बीपीओ जॉब के लिए एलिजिबिलटी क्या होना चाइये?

सबसे पहले एलिजिबिलटी देखते हैं तो आपका 12th पास या ग्रेजुएशन किसी भी स्ट्रीम से ऐसा कोई जरूरी नहीं है कि आप पर्टिकुलर किसी सब्जेक्ट से ही आपका ग्रेजुएशन या पास में किसी भी स्ट्रीम से आप ग्रेजुएशन है तो आप कॉलसेंटर की जॉब ले सकते हैं लेकिन आपका सिलेक्शन किस तरह से होता है तो आपके यहां पर होगा इंटरव्यू लिया जाता है जिसमें आपसे कुछ जबाब किए जाते हैं जैसे कि आप अपने बारे में कुछ बताएं या आप कॉल सेंटर में काम क्यों करना चाहते हैं या कॉल सेंटर के बारे में आपके क्या विचार हैं या जो कंपनी में आप गए हैं वो आपसे पूछ सकते हैं कि आप हमारी कंपनी के लिए ही वर्क क्यों करना चाहते हैं तो इसी तरह से सबाल से जो आपको इंटरव्यू में लिए जाते हैं।

बीपीओ के लिए ट्रेनिंग

इसके बाद आपको दी जाती है ट्रेनिंग में आपको एक स्क्रिप्ट तैयार की जाती है। पहले आपको ट्रेन्ड किया जाता है आपको सिखाया जाता है कस्टमर से किस तरह से बात करनी है कुछ बॉट्स हैं जैसे कि धन्यवाद आपका दिन सुबह कुछ ऐसा जो आपको सिखाए जाते हैं बताए जाते हैं बात करने का तरीका आपको सिखाया जाता है कस्टमर से साथ में आपको एक स्ट्रिक्ट जो स्क्रिप्ट तैयार की जाती है जिसके अकॉर्डिंग ही आपको बोलने को कहा जाता है। जब आपकी ट्रेनिंग कंप्लीट हो जाती है तो आपको कॉल पर बात करने को कहा जाता है और आपकी जो कॉल है वो ऑडिटर सुनते हैं और देखते हैं कि आप ठीक तरह से बात कर रहे हैं या नहीं। अगर कोई कमी होती है तो उसको ऑडिटर उसमें सुधार करते हैं या उन कमियों को दूर कराया जाता हो और आपको और अच्छे से ट्रेंड करने को बोला जाता है। यह ट्रेन आपको किया जाता है।

बीपीओ जॉब की सैलरी

हम देखते हैं सैलरी क्या रहती है तो सैलरी हम फिक्स नहीं बता सकते कि सैलरी क्या रहती है क्योंकि अलग अलग कंपनियां अपने अलग अलग सैलरी है वो फिक्स करती है। फ्रेशर्स के लिए स्टार्टिंग सैलरी देखें तो 8 हजार से 20 हजार तक का मान के चलें। कंपनी के अकॉर्डिंग रहता है मैं फिर से कहूँगी कंपनी पर डिपेंड करता है वो कितना देती हैं। कई कंपनियां हैं जो 8 हजार से भी कम देती है कॉलसेंटर पर तो ये आप किस कंपनी में जॉब कर रहे हैं ये उस पर डिपेंड करेगा मैं यहां पर एक एवरेज निकालकर आपको दे रही हूं 8 हजार से 20 हजार रहता है।

आज हमने क्या सीखा?

आज की पोस्ट में हमने बीपीओ या कॉलसेंटर जॉब के बारे में सीखा की बीपीओ या कॉलसेंटर जॉब क्या है, बीपीओ की पूरा नाम क्या है ( BPO Full Form In Hindi ), कॉलसेंटर जॉब के लिए क्या करना होगा, कॉलसेंटर की सैलेरी क्या होता है बारे में। उम्मीद करता हूं ये पोस्ट आपको अच्छा लगा होगा अच्छा लगा हो तो इस पोस्ट को आप अपनी दोस्तो के साथ जरूर शेयर कर देना उनको भी पता चले की बीपीओ या कॉलसेंटर जॉब क्या है। तब तक के लिए जय हिन्द।

About the author

Avatar

Mantu Sing

Hi, I'm Mantu Sing, में hindimepro.in वेबसाइट का संस्थापक और लेखक भी हूं। में इस वेबसाइट में जीबनी परिचय, फुल फॉर्म के बारे में पोस्ट लिखता हूं।

Leave a Comment