हेलो दोस्तो कैसे हो आप लोग उम्मीद करता हूं आप सब अच्छे होंगे। आप सभी को HindiMePro वेबसाइट में स्वागत है। आज फिर से आपके लिए और एक नया पोस्ट लेके आया आज की इस पोस्ट में आपको Artificial Intelligence क्या है बारे में पूरी जानकारी दूंगा।

Artificial Intelligence इसके बारे में आपने जरूर सुना होगा पर आजकल तो हम सभी स्मार्टफोन्स में गूगल मैप और गूगल असिस्टेंट जैसे सॉफ्टवेर के रूप में इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। इस पूरे ब्रह्माण्ड में मनुष्य ही एक ऐसा जीव है जिसे ईश्वर ने दिमाग देने के साथ उसको सही तरीके से उपयोग करने की कुशलता भी प्रदान की है।

मनुष्य अपनी बुद्धि और कुशलता से आज कहां से कहां पहुंच गया है। अपने इस बुद्धि के बल पर इंसान ने कम्प्यूटर इंटरनेट स्मार्टफोन्स जैसे और भी कई सारे आविष्कार किए हैं जिसकी वजह से हम मनुष्यों की जिन्दगी को एक नई दिशा मिली है। टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में इंसान ने इतना विकास कर लिया है कि अब उसी की तरह सोचने समझने और अपने दिमाग का इस्तेमाल करने वाला एक चलता फिरता मशीन तैयार करने के बारे में सोच रहा है जो बिल्कुल इंसानों की तरह ही काम करने की क्षमता रख सकता है उस एडवांस टेक्नॉलजी से बनने वाली मशीन को ही Artificial Intelligence कहा जाता है। इसके बारे में लोगों को ज्यादा कुछ नहीं पता। इसीलिए आज हम आपके लिए इस विडियो में यह यानी Artificial Intelligence से जुड़ी खास जानकारी लेकर आए हैं जिसमें आपको Artificial Intelligence क्या है इसका इस्तेमाल कहां किया जाएगा और इसके क्या फायदे और नुकसान हैं। इन सभी के बारे में बताएंगे।

Artificial Intelligence क्या है?

तो सबसे पहले हम जानेंगे कि Artificial Intelligence क्या है। Artificial Intelligence को AI भी कहा जाता है। AI का फुल फॉर्म है Artificial Intelligence जिसे हिन्दी में कृत्रिम बुद्धिमता कहा जाता है यहां कृत्रिम का मतलब है कि किसी व्यक्ति के द्वारा बनाया हुआ और बुद्धिमता का मतलब है इंटेलिजेंस यानि सोचने की शक्ति। यानी कंप्यूटर विज्ञान की एक शाखा है जो ऐसी मशीन को विकसित कर रही है जो इन्सान की तरह सोच सके और कार्य कर सके।

जब हम किसी कंप्यूटर को इस तरह तैयार करते हैं कि वह मनुष्य की अक्लमंदी की तरह कार्य कर सके तो उसे Artificial Intelligence कहते हैं अर्थात जब हम किसी मशीन में इस तरह के प्रोग्राम सेट करते हैं कि वह एक मनुष्य की भांति कार्य कर सके उसे Artificial Intelligence कहा जाता है। ये जो इंटेलिजेंस की ताकत होती है ये हम मनुष्य के अंदर अपने आप ही बढती है कुछ देख कर कुछ सुन कर कुछ छूकर कि हम ये सोच सकते हैं कि उस चीज के साथ कैसे व्यवहार करना चाहिए। ठीक उसी तरह से कंप्यूटर यंत्र के अंदर भी एक तरह का इंटेलिजेंस डेवलप कराया जाता है जिसके जरिये कंप्यूटर सिस्टम या रोबोटिक सिस्टम तैयार किया जाता है जो उन्हीं तर्कों के आधार पर चलता है जिसके आधार पर मानव मस्तिष्क काम करता है।

कंप्यूटर साइंस के कुछ वैज्ञानिकों ने AI की परिकल्पना दुनिया के सामने रखी थी जिसमें उन्होंने बताया था कि ये आइकन सबके द्वारा एक ऐसा कंप्यूटर कंट्रोल्ड मशीन या एक ऐसा सॉफ्टवेयर बनाने की योजना बनाई जा रही है जो वैसा ही सोच सके जैसे इंसान का दिमाग सोचता है। मानव सूचनाएं एनालाइज करने और याद रखने का काम भी अपने दिमाग की जगह पर यंत्र कंप्यूटर से कराना चाहता है इसीलिए Artificial Intelligence की प्रगति पर ज़ोर दिया जा रहा है। कंप्यूटर साइंस में AI को मशीन लर्निंग के नाम से भी जाना जाता है। मशीन लर्निंग AI का एक हिस्सा इस सिस्टम को अपने अनुभव से अपने आप ही सीखने और खुद को इंप्रूव करने की क्षमता देता है और इसमें प्राथमिक महत्व कंप्यूटर्स को खुद से इंसान के बिना ही सीखने के लिए अनुमति देना होता है। मशीन लर्निंग कंप्यूटर प्रोग्राम्स की डेवलपमेंट पर फोकस करता है जो डेटा को एक्सेस कर सके और उसमें अपने आप सीख सकें। जिस तरह मनुष्य अपने अनुभव से अपनी क्षमता को बेहतर करते हैं ठीक उसी तरह या के प्रोग्राम्स भी हैं जिसके जरिए मशीन्स भी सीखने का काम कर सकती हैं। आज के समय में AI और मशीन लर्निंग के लिए सबसे ज्यादा पायदान प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का उपयोग किया जा रहा है।

Artificial Intelligence की शुरुआत किसने की?

चलिए अब हम जानेंगे कि Artificial Intelligence की शुरुआत किसने की। जब इनसान कंप्यूटर सिस्टम की असली ताकत की खोज कर रहा था तब मनुष्य के दिमाग में उन्हें यह सोचने पर मजबूर किया कि क्या एक मशीन भी इंसानों की तरह सोच सकती है। इसी सवाल से Artificial Intelligence के विकास की शुरुआत हुई जिसके पीछे केवल एक ही उद्देश्य था कि एक ऐसा बुद्धिमान मशीन की संरचना की जाए जो कि इंसानों की तरह ही बुद्धिमान हो और उनकी तरह ही सोचने समझने और सीखने की क्षमता रखता हो।

1995 में सबसे पहले जॉन मैकार्थी ने Artificial Intelligence शब्द का इस्तेमाल किया था। वो एक अमेरिकन कंप्यूटर साइंटिस्ट थे जिन्होंने सबसे पहले इस टेक्नोलॉजी के बारे में सन 1956 में एक कॉन्फ्रेंस में बताया था। इसलिए उन्हें फादर ऑफ Artificial Intelligence भी कहा जाता है। Artificial Intelligence कोई नया विषय नहीं है। दशकों से दुनियाभर में इस पर चर्चा होती रही मैट्रिक्स रोबोट चार मिनिएचर ब्लेड रनर जैसी फिल्मों का आधार Artificial Intelligence का ही है जहां रोबोट का स्वरूप दिखाया गया कि कैसे वो इंसानों की तरह सोचता है और काम करता है।

Artificial Intelligence का उपयोग कहां किया जाता है?

और अब हम जानेंगे कि Artificial Intelligence का उपयोग कहां किया जाता है। Artificial Intelligence की लोकप्रियता बड़े ही जोरो शोरों से बढ़ती चली जा रही है और आज ये एक ऐसा विषय बन गया है जिसकी टेक्नॉलजी और बिजनेस के क्षेत्रों में काफी चर्चा हो रही है। कई विशेषज्ञों और इंडस्ट्री एनालिसिस है कि यह मशीन लर्निंग हमारा भविष्य है लेकिन अगर हम अपने चारों तरफ देखें तो हम पाएंगे कि ये हमारा भविष्य नहीं बल्कि वर्तमान है। टेक्नोलॉजी के विकास के साथ आज हम किसी न किसी तरीके से AI से जुड़े हुए हैं और इसका इस्तेमाल भी कर रहे हैं। हाल ही में कई कंपनियों ने मशीन लर्निंग पर काफी निवेश किया है जिसके कारण कई प्रोडक्ट्स और एप्स हमारे लिए उपलब्ध हुए।

Artificial Intelligence का फायदे?

तो चलिए अब हम आपको अभी के समय में फायदे होने वाले कुछ AI के उदहारण देते हैं।

1.आपने Apple फोन तो देखा ही होगा। इसकी सबसे लोकप्रिय पर्सनल असिस्टेंट सिरी के बारे में भी जरूर सुना होगा। इससे आप वो सारी चीजें करवा सकते हैं जो आप पहले इंटरनेट में टाइप करके किया करते थे जैसे मैसेज सेंड करना। इंटरनेट से इन्फर्मेशन ढूंढना कोई एप्लीकेशन ओपन करना टाइमर सेट करना अलार्म लगाना इत्यादि जैसे सभी काम आप मोबाइल को बिना हाथ लगाए सीरी से ही सिरी कहकर करवा सकते हैं। सिरी आपकी भाषा और सवालों को समझने के लिए मशीन लर्निंग टेक्नॉलजी का प्रयोग करती है। हालांकि यह सिर्फ iphone और ipad में ही उपलब्ध है। इसी तरह एलेक्सा डिवाइस विंडोज़ का कोर्टाना और एंड्रॉएड फोन की पर्सनल असिस्टेंट Google असिस्टेंट है जो कि सीरी की तरह काम करने के लिए उपयोग किए जाते हैं।

2. Google अपने कई क्षेत्रों में इसका इस्तेमाल करता है लेकिन google maps में यह टेक्नोलॉजी का अच्छा इस्तेमाल हुआ है। google maps हमारी लोकेशन को ट्रैक करती है और हमें सही रास्ता बताने के लिए इनेबल्ड मैपिंग का भी इस्तेमाल करती है और हमें सही रूट बताने में मदद करती है।

3. एकसमान सिर्फ स्मार्टफोन ही नहीं बल्कि आटोमोबाइल्स के क्षेत्र में भी इसका बहुत ज्यादा उपयोग किया जा रहा है। अगर आप कार पसंद करते हैं तो आपको टेस्ला कार की जानकारी जरूर होगी। यह कार अब तक उपलब्ध सबसे बेहतरीन आटोमोबाइल्स में से की है। टेस्ला कार से जुड़ने के बाद इसमें सेल्फ ड्राइविंग जैसे फीचर्स उपलब्ध हैं। ऐसे ही न जाने कितनी सेल्फ ड्राइविंग कार और बन रही है जो आने वाले वक्त में भी और स्मार्ट हो जाएगी।

4. AI का इस्तेमाल मैनुफैक्चरिंग इंडस्ट्री में भी खूब जोरों से हो रहा है। पहले जिस काम को करने के लिए सैकड़ों लोग लगते थे वहीं आज मशीन की मदद से वही काम बहुत जल्दी और बेहतर किया जा रहा है।

5. हमें वीडियो गेम्स में भी AI की झलक मिलती है। जैसे कई सारी गेम्स में आपको कंप्यूटर से खेलना होता है जैसे चेस और लूडो। इन सबके अलावा एक इस्तमाल स्पीच रिकग्निशन कंप्यूटर विजन रोबोटिक्स फायनेंस वेदर फोरकास्टिंग हेल्थ इंडस्ट्री और एविएशन में भी होता है।

Artificial Intelligence का नुकसान?

दोस्तो अब हम जानेंगे कि Artificial Intelligence के क्या नुकसान हैं।

1. Artificial Intelligence के लाभ अभी बहुत स्पष्ट नहीं हैं लेकिन इसके खतरों को लेकर कहा जा सकता है कि या कि आने से सबसे बड़ा नुकसान मनुष्य का ही होगा।

2.  मनुष्यों के स्थान पर काम करेंगी और मशीनें स्वयं ही निर्णय लेने लगेगी और उन पर नियंत्रण भी किया गया तो इससे मनुष्य के लिए खतरा भी उत्पन्न हो सकता है।

3.  विशेषज्ञों का कहना है कि सोचने समझने वाले रोबोट अगर किसी कारण या परिस्थिति में मनुष्य को अपना दुश्मन मानने लगें तो मानवता के लिए खतरा पैदा हो सकता है।

4. Artificial Intelligence के निर्माण के लिए भारी लागत की आवश्यकता होती है क्योंकि यह बहुत ही कॉम्प्लेक्स मशीन होती है उनकी मरम्मत और रखरखाव के लिए भारी लागत की आवश्यकता होगी। 5. इसमें कोई शक नहीं है कि AI कई सारी नौकरियों को मनुष्यों से छीन रही है जिसमें भविष्य में बेरोजगारी की समस्या और भी बनने वाली है। Google के CEO सुंदर पिचाई का कहना है कि मानवता के फायदे के लिए हमने आग और बिजली का इस्तेमाल तो करना सीख लिया है पर इसके बुरे पहलुओं से उबरना जरूरी है। इसी प्रकार Artificial Intelligence भी ऐसी तकनीक है और इसका इस्तेमाल भी हम बहुत से क्षेत्रों में अपने फायदे के लिए कर रहे हैं। लेकिन सच ये भी है कि अगर इसके जोखिम से बचने का तरीका नहीं ढूंढा तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं।

आज हमने क्या सीखा?

आज की पोस्ट में हमने सीखा है Artificial Intelligence का बारे में की Artificial Intelligence क्या है, Artificial Intelligence की शुरुआत किसने की, Artificial Intelligence का उपयोग कहां किया जाता है, Artificial Intelligence का फायदे, Artificial Intelligence का नुकसान के बारे में। उम्मीद करता हूं ये पोस्ट आपको अच्छा लगा होगा अच्छा लगा हो तो इस पोस्ट को आप अपनी दोस्तो के साथ जरूर शेयर कर देना उनको भी पता चले की Artificial Intelligence क्या है। तब तक के लिए जय हिन्द।

Author

Hi, I'm Mantu Sing, में hindimepro.in वेबसाइट का संस्थापक हूं। में इस वेबसाइट में जीबनी परिचय, फुल फॉर्म, जानकारी के बारे में पोस्ट लिखता हूं।

Write A Comment